http://ggsnews24.com उगते सूर्य को महिलाओं ने दिया अर्ध्य:खेतासराय – GGS News24

उगते सूर्य को महिलाओं ने दिया अर्ध्य:खेतासराय

  • पौराणिक मान्यता के अनुसार छठ को सूर्य देवता की बहन माना जाता है
  • छठ पूजा के समापन पर उमड़ा आस्था का सैलाब
जीजीएस न्यूज़24 ब्यूरो खेतासराय जौनपुर मोहम्मद अरशद

खेतासराय(जौनपुर) लोकपर्व छठ या सूर्यषष्ठी पूजा जा फैलाव देश – विदेश उन भागों में भी हो गया है, जहां बिहार – झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोग जाकर बस गए है। इसमें सूर्य देवता की पूजा की जाती है, जो प्रत्यक्ष दिखते है और सभी प्राणियों के जीवन के आधार है। सूर्य के साथ षष्ठी देवी छठ मैया की भी पूजा की जाती है। इसके लिए स्थानीय क्षेत्र की महिलाएं भी पीछे नहीं रही। कस्बा के भारतीविद्यापीठ संस्कृत महाविद्यालय के प्रांगण स्थित तालाब के किनारे सूर्य को अर्घ्य देने के लिए भीड़ लगा रहा।

जानकारी के अनुसार क्षेत्र के गोरारी, डडसौली,पोरई कला,बसीर पुर, गोधना सहित विभिन्न गांवों के पोखरे के किनारे शनिवार की शाम सूर्य को अर्घ्य देने के लिए व्रती महिलाओं की जमावड़ा लगा रहा। जहाँ डूबते हुए सूरज को अर्घ्य देकर अपनी – अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए प्रार्थना की। यह त्योहार बिहार की मिट्टी से निकलकर कोने – कोने अपनी महत्ता दर्ज कर चुकी है। आधुनिकता के इस दौर में अन्य पर्वों में जहाँ पर्याप्त परिवर्तन आ चुका है। वही छठ पर्व में 13 वीं सदी में शास्त्रों में उल्लेखित विधि -विधान आज भी सुरक्षित है। यह तथ्य इस पर्व के प्रति दिनप्रतिदिन बढ़ती लोगों का परिणाम है।

पुत्र कमाना व पुत्र सलामती के लिए छठी व्रती सूर्य की उपासना का यह महापर्व मानती है। कार्तिक मास की अमावस्या के पश्चात शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को अर्थात दीपावली के बाद आने वाले इस महापर्व को सूर्य उपासना के रूप में मनाया जाता है। इस साल यह त्योहार 31 अक्टूबर से प्रारम्भ होकर 3 नवम्बर तक मनाया जाता है। चार दिवसीय छठ पूजा चल रहा है। नहाय खाय के साथ इस त्योहार का आगाज होता है। इसके साथ डाला छठ के चार दिवसीय अनुष्ठान का आगाज के तीसरे दिन सूर्य को अर्घ्य देकर सुख समृद्धि की कामना की।

इस त्योहार की तैयारियों को लेकर क्षेत्र में लोगों में उत्साह देखने को मिला। जिससे बाजार की रौनकी भी बढ़ी रही। छठ पूजा के लिए सामानों की खरीदारी भी तेज हो गयी थी। छठ महापर्व सभी को एक सूत्र में बांधकर सुख समृद्धि प्रदान करता है। पर्व को लेकर घरों में तैयारियां कई दिनों पहले से की जाती है। इस त्योहार का उद्देश्य छठी मैया की कृपा बने रहने का है। छठ पर्व पर पूजा के लिए लोग हर छोटी से छोटी चीजो को जुटाने में लगे रहते है। पूजा में साफ – सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है। इसके लिए क्षेत्र के विभिन्न गांवों सहित कस्बा स्थित पोखरे के किनारे पूजा करने का नज़ारा देखने को मिला।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

क्या कोविड 19 का जिम्मेदार चीन है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close