http://ggsnews24.com निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद की मांग पर मछुआरों के हित में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बड़ा तोहफा – GGS News24

निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद की मांग पर मछुआरों के हित में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बड़ा तोहफा

जीजीएस News24/नई दिल्ली: निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर संजय कुमार निषाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेज कर मांग की थी कि मछुवारों का मत्स्यपालन व्यवसाय मछली पकड़ना बंद हो जाने के कारण यह समाज भुखमरी के कगार पर पहुंच गया है। इस स्थिति में मछुआरा समुदाय को आर्थिक पैकेज की मांग की गई कि तत्काल ताकि इस समुदाय को आर्थिक तंगी भूखमरी से बचाया जा सके॥


राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय कुमार निषाद ने देश के जिम्मेदार नेतृत्वकर्ता होने के कारण ऐसे महामारी के दौर मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर ये लिखा देश के लाखों मछुआरों की विषम परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए। देश के लाखों मछुआरो को तत्काल राहत पैकेज देने की थी। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति संभल सके।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आर्थिक पैकेज में मछुआरों के लिए सौगात दिया। “प्रधान मंत्री मत्स्य सम्पदा योजना” द्वारा देश के सभी राज्यों के मछुआरों के लिए 20 हजार करोड़ रुपए का पैकेज।मरीन, इनलैंड और एक्वाकल्चर के लिए 11 हज़ार करोड़ और 9 हज़ार करोड़ रुपये मत्स्य आधारभूत संरचना को मजबूत करने के लिए। ‘मत्स्य सम्पदा योजना” के तहत

मछुआरों को नाव, मत्स्य पालन से जुड़ी तकनीकों , मछुआरों और उनकी नाओं का होगा बीमा। मत्स्य सम्पदा को बढ़ाने के लिए 55 लाख लोगों को मिलेगा रोज़गार। जिससे आने वाले 5 सालों में 70 लाख टन अतिरिक्त मत्स्य उत्पादन का लक्ष्य पूरा किया जा सके। में अपनी तरफ से और समस्त मछुवारों की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमन का है जो “प्रधानमंत्री मछुआ संपदा” के माध्यम से 20 हजार करोड़ करोड़ का राहत पैकेज का ऐलान कर


।। मछुआरों को भुखमरी से बचाना और विकास की मुख्यधारा से जोड़ने की बात मान ली गई। निषाद पार्टी प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र मणि निषाद . वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश महात्मा अशोक कुमार निषाद. महेंद्र निषाद..और मछुआ समाज के तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आभार जताया है

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

क्या कोविड 19 का जिम्मेदार चीन है?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close