http://ggsnews24.com श्रीराम के वनवास पर भावविभोर हुए दर्शक – GGS News24

श्रीराम के वनवास पर भावविभोर हुए दर्शक

जीजीएस न्यूज़24 ब्यूरो चीफ जौनपुर दीपक कुमार विश्वकर्मा
  • श्री गणेशजी बालोद्यान सन्दहां के प्रधानाध्यापक चन्द्रशेखर तिवारी भी पहुंचे।


खेतासराय के मवई ग्राम सभा में मंगलवार को बाल रामलीला समिति द्वारा अद्भुत दृश्य देखने को मिला जो राम वनवास का प्रसंग चल रहा था वही जनता आसुओं के धार रोकने में अक्षम थीं।
प्रभु श्रीराम के सामने रघुकुल की सनातन रीति का निर्वहन तो बड़े भाई के प्रेम में डूबे भरत का त्याग। इससे दोनों के बीच द्वंद्व ने देव गण को बेचैन कर दिया। अंतत: श्री राम को समझाने में भरत असफल रहे और देवगणों का संशय दूर हो गया। कई क्षण ऐसे आए जब भरत की व्याकुलता व श्रीराम के प्रेम पूरित संवादों पर भाव विभोर लीलाप्रेमी अपने आंसू नहीं रोक पाए।
मवई के प्रसिद्ध बाल रामलीला समिति द्वारा मंगलवार को लीला स्थल पर प्रसंगों यथा गुरु वशिष्ठ और महाराज जनक की सभा का दृश्य दिखाया गया। गुरु वशिष्ठ, भरत को समझाते हैं कि श्रीराम का जन्म देवहित व राक्षसों के सर्वनाश के लिए हुआ है। वह सभी को सुख देने वाले हैं। अत: वह जिस रीति से अयोध्या चलें वही उपाय करें। गुरु द्वारा खुद से उपाय पूछे जाने को भरत अपना दुर्भाग्य बताते हैं। इन वचनों को सुन श्रीराम शपथ पूर्वक कहते हैं कि भरत के समान तीनो लोकों में कोई भाई नहीं होगा। भरत

कहते हैं आपने खेल में भी हमें कभी कटु वचन नहीं बोला,लगता मेरा मन न टूटे इसलिए खेल में मुझे ही जिताया मगर मैं अपनी माता कैकेयी की करनी से हार गया। व्यथित भरत को श्रीराम समझाते हैं और बताते हैं कि-भरत तुम धर्म की धुरी, प्रेम में प्रवीण व लोक वेद के ज्ञाता हो। सूर्यवंश की रीति कहती है कि हम पिता दशरथ की कीर्ति, सत्य प्रतिज्ञा का मान रखें। यह आपत्तिकाल कुछ समय के लिए आया है। इस कठिन संकट के समय प्रजा व परिवार को सुखी रखो, यही उचित है। प्रभु की वाणी सुन स्वर्गलोक में सशंकित देवगण मुग्ध हो जाते हैं और उनके मन का संशय भी दूर हो जाता है।
अवधेश यादव (अध्यक्ष) , मदनलाल चौहान (उपाध्यक्ष) , रूपराज चौहान (डायरेक्टर), रूपचन्द्र चौहान (संयोजक) एवं बाल रामलीला समिति मवई के सभी युवा कार्यकर्ता उपस्थित रहें।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप हमारे GGS NEWS 24 निष्पक्ष पत्रकारिता को कितना अंक देना चाहेंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close