http://ggsnews24.com नेपाल भूकम्प पीड़ितों की मदद करने वाला संगठन युवा समाजिक संगठन कोरोना काल मे भी गरीबों असहायों, मजदूरों को मुहैया करा रहा है भोजन – GGS News24

नेपाल भूकम्प पीड़ितों की मदद करने वाला संगठन युवा समाजिक संगठन कोरोना काल मे भी गरीबों असहायों, मजदूरों को मुहैया करा रहा है भोजन

संगठन के मुस्तकीम अहमद, ओम चौरसिया, फैजान अंसारी, डॉक्टर तारिक दिन रात लगे हैं गरीबों की सेवा में।

प्रतिदिन सैकड़ों ग़रीबों में वितरण कर रहे है भोजन।

जीजीएस न्यूज़ 24 जौनपुर शाहगंज ब्यूरो नौशाद मंसूरी

शाहगंज(जौनपुर)
जब पूरे विश्व के साथ साथ भारत कोरोना जैसी महामारी से लड़ रहा है।ऐसे विकट स्थिति में सरकार, शासन प्रशासन तो अपने देश के नागरिकों का ख्याल रखने में पूरी जान लगा दिए हैं।ऐसे में भारत की कई सामाजिक संस्थाए और समाज सेवी भी कोरोना से जंग में गरीबो के लिए मसीहा साबित हो रहे है।ऐसे गरीब जो रिक्शा चलाकर, दिहाड़ी मजदूरी करके, ठेला चलाकर फेरी लगाकर अपनी और अपने परिवार की जीविका चलाते थे।कोरोना आपातकाल में इन लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट आगया है।इन्ही हालातो को देखते नेपाल भूकम्प पीड़ितों की हरसम्भव मदद करने वाले युवा समाजिक संगठन मुस्तकीम अहमद, ओम चौरसिया, फैजान अंसारी, डॉक्टर तारिक आदि ने लाकडाउन के चलते उन गरीबो के लिए पूरी तन्मयता से लोगों में प्रतिदिन सैकड़ो गरीबों में खुद भोजन बनाकर बांट रहे हैं।
इस बारे में जब संगठन के संयोजक मुस्तकीम अहमद से बात किया गया तो उन्होंने कहा की कोरोना से जंग में हम और हमारा संगठन पूरी तरह से सरकार शासन, प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।
जब तक देश से कोरोना जैसी महामारी खत्म नही हो जाती तब तक हमसे जितना हो सकता है गरीबों असहायों की मदद करते रहेंगे।
संगठन के कार्यकर्ता प्रतिदिन सुबह एक चार पहिया वाहन में भोजन का पैकेट भर कर निकल पड़ते हैं गरीबों की मदद के लिए।और नगर के हर गली मोहल्ले में जा जाकर गरीबों को राशन वितरण करते हैं।
बताते चले कोरोना महामारी को देखते हुए प्रधानमंत्री के आह्वान पर पूरे देश में 21 दिन का लाकडाउन से लगातार संगठन के कार्यकर्ता प्रतिदिन सैकड़ों गरीबों, मज़दूरों, फेरी वालो, असहायों को भोजन वितरण में लगे है।
संगठन के संयोजक मुस्तकीम अहमद ने बताया की ये सेवा लाकडाउन तक निरन्तर चलती रहेगी।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप हमारे GGS NEWS 24 निष्पक्ष पत्रकारिता को कितना अंक देना चाहेंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close