http://ggsnews24.com GGS News24

नक्सलियों व सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़, 17 जवान शहीद, 14 घायल

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में सुरक्षा बल के जवानों और नक्सलियों के बीच शनिवार को हुई मुठभेड़ में 17 जवान शहीद हो गए। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव ने जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है।

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, शनिवार की दोपहर को लगभग ढाई बजे चिंतागुफा थाना क्षेत्र में निमपा के जंगल में पुलिस बल सर्चिग पर निकला था। इस दल में डिस्टिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरपी) और एसटीएफ के जवान थे। तभी जंगल में घात लगाए बैठे नक्सलियों ने सुरक्षा जवानों पर हमला बोल दिया। दोनों ओर से गोलीबारी का दौर शनिवार की रात तक जारी रहा। रात को 13 जवानों के लापता होने की पुष्टि की गई थी।
राज्य के मंत्री सिंहदेव ने रविवार को संवाददाताओं से चर्चा करते हुए 17 जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है। इससे पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को संवाददाताओं से चर्चा करते हुए, 17 जवानों के लापता होने की पुष्टि की थी। बाद में इन सभी जवानों की शहादत की पुष्टि हुई।

उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के हमले का जवाब दिया। सूत्रों से पता चला है कि नक्स्ली बड़े पैमाने पर आधुनिक हथियार भी लूट कर ले गए हैं। वहीं मुठभेड़ में घायल हुए 14 जवानों का रायपुर के अस्पताल में इलाज जारी है। इनमें से दो की हाल गंभीर बनी हुई है। इन घायलों को देखने मुख्यमंत्री बघेल रामकृष्ण केयर अस्पताल पहुंचे।

5 से 6 नक्सली भी मारे गए

डीजीपी अवस्थी ने बताया कि मुठभेड़ में पांच से छह नक्सली मारे गए। इतनी ही संख्या में नक्सलियों के घायल होने का अनुमान है। मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए हैं और 14 जवान घायल हुए हैं। इनमें से दो की हालत नाजुक बनी हुई है। घायल जवानों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जब बल के जवान दोपहर दो बज कर करीब 30 मिनट पर राजगुड़ा गांव की पहाड़ी पर थे तब नक्सलियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की। उन्होंने बताया कि इस घटना में चार से पांच नक्सली, जिसमें नक्सली नेता भी शामिल हैं, मारे गए तथा लगभग पांच नक्सली घायल हुए हैं।

नक्सलियों ने जवानों को एंबुश में फंसाया

जवान नक्सलियों को सरप्राइज एनकाउंटर में फंसाना चाह रहे थे, लेकिन जवानों के जंगलों में घुसने की खबर पहले ही नक्सलियों तक पहुंच गई थी। नक्सलियों ने रणनीति के तहत जवानों को जंगलों के अंदर तक आने दिया। जवान कसालपाड़ के आगे तक गए और जब नक्सली हलचल नहीं दिखी तो वो वापस लौटने लगे। जैसे ही सुरक्षा बल कसालपाड़ से निकले, नक्सलियों के लगाए एंबुश में फंस गए।

कसालपाड़ से कुछ दूर आगे कोराज डोंगरी के पास नक्सलियों ने पहाड़ के ऊपर से जवानों पर हमला बोल दिया। अचानक हुई गोलीबारी में कुछ जवान घायल हुए और कुछ शहीद हो गए हालांकि इसकी अभी तक अधिकारिक पुष्टि नही हुई है, इसके बाद दोनों और से रुक-रुककर गोलीबारी होती रही।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

उत्तर प्रदेश में 2022 में किसकी सरकार होगी ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close
Close